Pehchan
Stories - Thriller Story

Pehchan- 2

 Pehchan- 2
 
 

 

रिया उन्हें समझाती है क्या मां आप हर बार की तरह उदास हो रही हो आपके पास में हूं और मेरे पास आप है यही बहुत है बस और कुछ नहीं चाहिए जिंदगी से।

रिया के मुंह से यह सब सुनकर उसकी मां खुश हो जाती है और वह रिया को गले लगा लेती है। और उससे पूछती है रिया क्या सोचा है अब क्या करना है?? रिया उन्हें पूछती है किस बात का माँ ?? तब उसकी मां उसे बताती है तुम्हारी फ्रेंड ने मुझे सब बता दिया है की तुम्हारी नौकरी चली गई है। तब रिया उदास हो जाती है और बोलती है सॉरी माँ सब मेरी ही गलती है। तब उसकी मां उसे समझाती है कोई बात नहीं बेटा सब ठीक हो जाएगा।

 
थोड़ी देर ऐसे ही शांत बैठे रहने के बाद रिया अपनी मां से पूछती है मां वैसे आपका वह अनजान मेहमान कब जाने वाला है?? मां उसे बोलती है अरे बेटा इतना चिढ क्यों रही हो तुम उससे और वैसे उसका नाम अमन है। तब रिया उन्हें बोलती हैं हां हां जानती हूं में फिर क्या इरादा है उनका?? तब उसकी माँ उससे कहती है। बेटा मैं क्या सोच रही थी इस शहर में अमन नया है और उसे रहने के लिए कहीं तो घर चाहिए ही। क्यों ना अमन को हमें रख ले?? एस पेइंग गेस्ट?? उसे घर मिल जाएगा और हमें थोड़ा पैसा। वैसे भी हम दोनों अकेले ही रहती हैं और अमन के यहां रहने से हमें भी थोड़ी सेफ्टी रहेगी।
 
फिर वह दोनों अमन के रूम में जाती है और देखती है अमन अपने बैग में कपड़े रख रहा होता है। मां से पूछती है यह क्या कर रहे हो बेटा?? अमन उन्हें बोलता है कुछ नहीं बस अपना  सामान पैक कर रहा था थोड़ी ही देर में निकलना है मुझे। वह किसी का फोन आया था घर देखने के लिए, तो सोचा जितना जल्दी हो सके चला जाऊं। तब माँ उसे बोलती है नहीं तुम कहीं नहीं जा रहे हो। अमन उनसे पूछता है क्या मतलब?? तब माँ उसे समझाती है अगर तुम चाहो तो यहां रह सकते हो एस ऐ पेइंग गेस्ट?? तब अमन बोलता है नहीं अंटी आप परेशान मत होइए में कहीं और देख लूंगा। मां उसे समझाती है इसमें परेशान होने वाली क्या बात है बेटा। तुम्हें एक घर चाहिए ना तो तुम यहां रह सकते हो। लेकिन अमन बोलता है लेकिन अंटी रिया जी को दिक्कत है हमारे यहाँ रहने से तो हम कैसे ?? तब रिया की मां उसे बोलती है बेटा तू परेशान मत हो यह रिया का ही फैसला है।
 
 
अमन रिया की तरफ देखा है मां रिया से कहती है बोल बेटा.. हां तुम यहां रह सकते हो पेइंग गेस्ट की तरह।मुझे कोई प्रॉब्लम नहीं है। अमन बोलता है ओके आंटी थैंक यू। तब मां उसे बोलती  है अरे इसमें थैंक यू की क्या बात है?? फिर वह दोनों वहां से जाने लगती है। रिया की मां दरवाजे पर रुककर बोलती है बेटा मैं नाश्ता लगा रही हूं जल्दी से बाहर आ जाना और वह दोनों वहां से चली जाती है। थोड़ी देर बाद तीनों नास्ता  कर रहे होते हैं तभी रिया की मां अमन से पूछता है। बेटा यहां किस काम से आए हो?? अमन बोलता है आंटी में जिस कंपनी में जॉब करता हूं उन्होंने मेरा ट्रांसफर कर दिया है यहां पर। तब रिया उसे पूछता है तुम करते क्या हो?? अमन उसे धीरे से बोलता है मैं कंपनी का मार्केटिंग एग्जीक्यूटिव मैनेजर हु। रिया की माँ खुश होकर उसे बोलती है अच्छी बात है बेटा, इस बहाने हम लोग मिल गए।
 
 
कुछ देर बाद अमन अपने कमरे में जाता है और अपनी अलमारी में से एक फोटो को निकाल कर देखता है और कहता है इतने साल हो गए हैं आपको मुझे छोड़कर गए हुए। पर जो जख्म आपने मुझे सालों पहले दिया था मैं उसे आज तक नहीं भूल पाया हूं। क्यों किया आपने ऐसा?? क्यों कर दिया मुझे अकेला ?? क्या गलती थी मेरी?? जो आप मुझे इस तरह अकेला छोड़कर चल गई इतने सालों में एक दिन आपको याद करें बिना नही बिता मेरा। हर पल यही सोचता हूं क्या मैं इस लायक भी नहीं था जो मुझे आपका प्यार मिले?? क्यों आप किसी और के लिए मुझे छोड़ कर चले गए?? आज सिर्फ आपकी वजह से मैं इस दुनिया में अकेला हूं। बहुत याद किया मैंने आपको। पर अब मैं आपसे अपने हर गम, अपने हर आंसू और अकेलेपन का बदला लूंगा। जिस तरह आपने मेरी जिंदगी आंसू से भर दी थी उसी तरह में आपको खून के आंसू रुलाऊंगा। आपकी जिंदगी में अंधेरा भर दूंगा। जिस इंसान के लिए आपने मुझे छोड़ा था मैं उसे बर्बाद कर दूंगा। आपकी जिंदगी में वो  तूफान लाऊंगा  जिससे आप कभी नहीं बच पाओगे, कभी नहीं और अपने आंसू पहुंचकर उस फोटो को दोबारा अलमीरा में छुपा देता है। और तैयार होकर ऑफिस के लिए निकल जाता है।
 
 
इधर रिया अपने कमरे में बैठकर सोच रही होती है क्या करें अब वह?? उसे बहुत टेंशन हो रही होती है। कैसे वह अब घर चलाएगी। अब तो उसकी नौकरी भी जा चुकी थी और सोचती है नहीं मुझे कुछ तो करना होगा। मैं इस तरह खाली हाथ तो नहीं बैठ सकती। मां मेरी वजह से परेशान हो जाएगी। पर समझ नहीं आ रहा क्या करूं?? तभी उसकी फ्रेंड सोनाली उसके कमरे में आती है। अरे रिया तू यहां है मैं तुझे कब से फोन कर रही हूं। आज तुम मेरे घर आने वाली थी। कितनी देर इंतजार किया मैंने तेरा और तू है यहां अकेले अपने कमरे में मायूस बैठी है। चल मेरे साथ मुझे तुझे कुछ दिखाना है। तब रिया उसे बोलता है ओके मैडम मैं बस अभी कपड़े बदलकर आता हूं फिर तुम जहां चाहोगी मैं तुम्हारे साथ चलूंगी ठीक है।
 
 
थोड़ी देर बाद सोनाली उसे एक छोटी सी बिल्डिंग के बाहर ले जाती है और कार साइड में पार्क करती है। रिया उससे पूछता है यह कौन सी जगह है सोनाली?? और हम  यहां क्यों आए हैं??  सोनाली उसे बोलती है देखो मैडम यह है तुम्हारी प्रॉब्लम का सॉल्यूशन। तुम्हें चिंता हो रही थी ना अब आगे क्या करोगी?? तो मैंने सोचा क्यों ना तुम्हारी प्रॉब्लम सॉल्व कर दू ?? अब अपने सवाल जवाब बंद करो और चलो मेरे साथ। वह दोनों कार से बाहर आती हैं। रिया जैसे ही बिल्डिंग के पास पहुंचती है उसके बाहर लगा हुआ बोर्ड पढ़ कर चौंक जाती है आरएस डांस सेंटर। वो सोनाली से पूछता है यह सब क्या है?? तब सोनाली उसे बोलता है कल रात को में पापा से तुम्हारे बारे में बात कर रही थीरिया  तब उन्होंने मुझे यह आईडिया दिया कि क्यों ना हम दोनों मिलकर अपनी डांस क्लास शुरू कर दे?? इसमें ना तुम्हें नौकरी करना पड़ेगा ना मुझे। वैसे भी पापा कब से काम में इन्वेस्ट करना चाहते थे तो उन्होंने मुझे कहा कि वह हमारे सेंटर पर इन्वेस्ट करेंगे। इससे उन्हें भी फायदा हो जाएगा और हमारी भी प्रॉब्लम सॉल्व हो जाएगी। रिया उसकी बात सुनकर इमोशनल हो जाती है और कहती है शुक्रिया। तुमने मेरी बहुत बड़ी प्रॉब्लम सॉल्व कर दी। अब मा को भी मेरी वजह से टेंशन नहीं लेनी होगी।
 
 
 
To Be Continued……

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *